भारत की आवाज़ voice of India

Publicissueonline.blogspot.com

चीनी उत्पाद का बहिष्कार करें boycott chinese product

Public issue”hello life” 2020
दोस्तों आप सभी जानते है कि चीन अपनी विस्तारवादी नीति के तहत भारत के पूर्वी लद्दाख गलवान घाटी पर सैन्य गतिविधियां को अंजाम दे रहा, 16 जून आधीरात को दोनों पक्षो के बीच, झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए।


अमेरिका, जर्मनी, फ़्रांस,जापान ने भारतीय सैनिकों की मौत पर शोक जताया है।


भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम अपने सन्देश में साफ कर दिया है, भारत शांति प्रिय देश है मगर अपनी शौर्य और सम्प्रभुता के साथ कोई समझौता नहीं करेगा।


चीन से लगी भारत की सीमाओं पर थल सेना, जल सेना, वायु सेना को सैन्य कार्यवाही की पूरी छूट दे दी गयी है।


वर्ष 2019 में भारत ने चीन से लगभग 75 अरब डॉलर की वस्तुओं का आयात किया जबकि इस दौरान भारत ने चीन को सिर्फ 18 अरब डॉलर की वस्तुओं का निर्यात किया।


चीन द्वारा की गयी सैन्य कार्यवाही से भारत के लोगों में अत्यधिक रोष की स्तिथि बनी हुई है और लोग चीन से बनी वस्तुओं का बहिष्कार कर रहे।


सन1965 में देश के प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री थे. जब भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध छिड़ गया.


उस समय देश में अनाज की बहुत कमी हो गयी थी. लाल बहादुर शास्त्री ने कहा “हमें भारत का स्वाभिमान बनाए रखने के लिए देश के पास उपलब्ध अनाज से ही काम चलाना होगा. हम किसी भी देश के आगे हाथ नहीं फैला सकते.यदि हमने किसी देश द्वारा अनाज देने की पेशकश स्वीकार की तो यह देश के स्वाभिमान पर गहरी चोट होगी.इसलिए देशवाशियो को सप्ताह में एक वक्त का उपवास करना चाहिए. इससे देश इतना अनाज बचा लेगा कि अगली फसल आने तक देश में अनाज की उपलब्धता बनी रहेगी.”


इस घटना का जिक्र मैं इसलिये कर रहा क्योकि चीन से बनी वस्तुओं का हम उपयोग करते है तो इससे हमारे देश के स्वाभिमान को चोट पहुचेगा.
Public issue “hello life” आप सभी से अनुरोध करता है, देश के स्वाभिमान की खातिर चीनी वस्तुओं का उपयोग बंद कर दे। मैंने भी संकल्प ले लिया है अपने फ़ोन से सभी चीनी सॉफ्टवेयर डिलीट कर दिया हैं।


आगे से कभी भी कोई चीन से बनी वास्तु का उपयोग नहीं करूँगा।

#save humanity

Translate English

Friends, you all know that China is carrying out military activities on India’s eastern Ladakh Galvan Valley as part of its expansionary policy, on June 16 midnight, 20 Indian soldiers were killed in a clash between the two sides.

The US, Germany, France, Japan have mourned the deaths of Indian soldiers.

Prime Minister of India, Narendra Modi has made the name of the country clear in his message, India is a peace loving country but will not compromise on its bravery and sovereignty.

The Army, Navy, Air Force have been given complete exemption for military operations on India’s borders with China.

In 2019, India imported goods worth about $ 75 billion from China, while during this time India exported only $ 18 billion to China.

Due to the military actions taken by China, there is a lot of anger among the people of India and people are boycotting the goods made from China.

In 1965, the Prime Minister of the country was Lal Bahadur Shastri. When war broke out between India and Pakistan.

At that time there was a shortage of food grains in the country. Lal Bahadur Shastri said, “To maintain the self-respect of India, we have to run from the grain available with the country. We cannot spread our hands to any country. If we accept the offer of grain by any country, then this country The self-respect will be deeply hurt. Therefore, the citizens of India should fast for one time in a week. With this the country will save so much grain that there will be availability of food grains till the next harvest.”

I am referring to this incident because if we use items made from China, it will hurt the self-respect of our country.
Public issue “hello life” requests all of you to stop using Chinese goods for the sake of the country’s pride. I have also resolved to delete all Chinese software from my phone.

From now on, no one will ever use goods made from China.

#save humanity

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: